बालूशाही । बालुसा । बालूशाही रेसिपी

बालूशाही
0Shares

बालूशाही एक बहुत ही स्वादिष्ट और ख़स्ता मिठाई है। यह उत्तर भारत की पारंपरिक मिठाई है जो की अकसर दीपावली के त्योहार में बनायी जाती है । बालूशाही बनाने में बहुत ही सरल है और इसको बनाने में ज़्याँदाँ समान की ज़रूरत नहीं होती है । बालूशाही बहुत ही ख़स्ता होती है इसलिए सबको बहुत पसंद आती है ।बालूशाही में मावा ( खोया) का उपयोग नहीं होता है तो आए आज हम बालूशाही बनाते है ।

बालूशाही । बालुसा । बालूशाही रेसिपी

Prep Time40 mins
Cook Time20 mins
Total Time1 hr
Course: Dessert
Cuisine: Indian
Servings: 4 व्यक्ति
Author: Subhadra

Ingredients

बालूशाही की सामग्री

  • 2 कप मैदा
  • 4 चम्मच मलाई
  • 2 चम्मच दही
  • 1 चुटकी नमक
  • 1 छोटा चम्मच खाने का सोडा
  • 2 चम्मच नारियल बूरा
  • पानी अव्यसक्तानुसर
  • तेल तलने के लिए

चाशनी बनाने की सामग्री

  • 2 कप शक्कर
  • 4 इलाइची
  • 2 छोटे चम्मच दूध
  • 1 कप पानी

Instructions

  • सबसे पहले मैदा में नमक और खाने का सोडा डालकर छान ले जिससे सभी सामग्री अच्छे से मिल जाए।
  • अब एक बाउल में छना हुआ मैदा डालें और घी डालकर से हाँथों से अच्छे से मिक्स करें।
  • इसके बाद मलाई और दही डालकर इनको भी अच्छे से मिक्स कर ले।
  • अब इसमें थोड़ा सा पानी डालकर गूँथ ले , पानी बहुत ही कम लगेगा।
  • तैयार आटे को ज़्यादा समय तक नहीं गूथना है।
  • गूँथे हुए आटे को ३० मिनिट के लिए सफ़ेद कपड़े से ढाँककर एक तरफ़ रख दे , ऐसा करने से गूँथा हुआ आटा बहुत अच्छा तैयार होता है।
  • अब हम चाशनी तैयार करेंगे , एक कढ़ाई में शक्कर डालें और उसके बाद पानी डालकर मिलाए और लगातार चालातें रहे जिससे नीचे कढ़ाई में चिपके नहीं।
  • इसमें इलायची डालकर २ मिनिट तक चलाएँ इसके बाद दूध डालें और उबलने दे।
  • दूध डालने से शक्कर की सारी गंदगी अलग हो जायेंगी अब इसको छान ले।
  • आटे को सेट होने के बाद हमें आटे को एक बार फिर से मलना है । हम पूरे आटे से नींबू के आकार के गोले बनाएँगे , अब इन गोलों को हथेलियों से एकदम गोल करना है और पेड़े की तरह से दबाना है और अंगूठे से दबाकर बीच में गड्ढा जैसा बनाना है ।अब सारे आटे से बालूशाही तैयार करना है ।
  • तलने के लिए कढ़ाई में तेल डालकर गरम होने दीजिए । जब घी गरम हो जाए तब तैयार बालूशाही को गरम तेल में डालिये , धीमी और मीडीयम आग में बालूशाही को दोनो तरफ़ से अच्छे से सुनहरा होने तक तल ले। इस तरह से पूरी बालूशाही को तल कर प्लेट में निकाल ले। 
  • अगर हम तेज़ आग में बालूशाही को तलते है तो बालूशाही बाहर से सुनहरी तो हो जाएगी लेकिन अन्दर से कच्ची रह जायेगी।
  • अब तैयार चाशनी में गरम निकाली हुईं बालूशाही डालना है ।बालूशाही को ४ से ५ मिनट तक चासनी में डूबी रहने दे।
  • इसके बाद चम्मच या चिमटे की मदद से बालूशाही को प्लेट में निकाल ले और ऊपर से नारियल बूरा डाले और ठंडा होने दीजिए जिससे चासनी सूख जाए।
  • बालूशाही खाने के लिए तैयार है।

Notes

  • चासनी १.५ ( डेढ़ तार ) की होनी चाहिए।
  •  चासनी और तली हुईं बालूशाही में से दोनो चीज़ें गरम नहीं होना चाहिए , अगर दोनो गरम रहेंगे तो बालूशाही की ऊपर वाली परत निकलने लगती है इसलिए एक गरम और एक ठंडा होना चाहिए।
  • नारियल बूरा की जगह पिसता या काजू का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
 
 

 

0Shares
 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*